हिमाचल प्रदेश ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य

ऐतिहासिक घटनाओं का क्रमबद्ध अध्ययन

326 ई.पू.

पंजाब के राजा पोरस ने सिकंदर के साथ झेलम नदी के किनारे हाइडेस्पीज का युद्ध लड़ाI इस युद्ध में पोरस की हार हुई थी।

630 ई.पू.

बिलासपुर व हण्डुर का युद्ध हुआ था।

900 ई.पू.

कहलूर रियासत की स्थापना वीरचंद चंदेल ने की थी।  

920 ई.पू.

साहिल वर्मन ने चंबा शहर की स्थापना की थी।   

1000 ई.पू.

जेठपाल ने नूरपुर की स्थापना की थी।

1009 ई.पू.

महमूद गजनवी ने कांगड़ा के किले पर आक्रमण किया था।

1100 ई.पू.

जेठपाल ने हिण्डुर रियासत की स्थापना की गई थी।

1139 ई.पू.

राजा रसालु ने सिरमौर रियासत की स्थापना की थी।

1365 ई.पू.

राजा फिरोजशाह तुगलक ने कांगड़ा किले पर आक्रमण किया था।

1398 ई.पू.

राजा तैमूर लंग ने पहाड़ी रियासतों को लूटा था।

1405 ई.पू.

गुलेर रियासत की स्थापना राजा हरिचंद ने की थी।

1450 ई.पू.

सिब्बा रियासत की स्थापना राजा शिवराम चंद ने की थी।

1526/27 ई.पू.

राजा अजबर सेन ने मंडी शहर की स्थापना की थी।

1550 ई.पू.

राजा दतार चंद ने दतारपुर रियासत की स्थापना की थी।

1621 ई.पू.

राजा जहांगीर द्वारा कांगड़ा किले के अंदर मस्जिद का निर्माण किया था।  

1686 ई.पू.

भंगाणी की लड़ाई गुरु गोविंद सिंह और बिलासपुर के राजा भीम चंद तथा उसके समधी राजा फतेहशाह के मध्य हुई थी। इसमें गुरु गोविंद सिंह को विजय प्राप्त हुई।

1700 ई.पू.

राजा हमीरचंद ने हमीरपुर शहर की स्थापना की थी।

1712 ई.पू.

राजा गरुड़ सेन ने सुंदरनगर की स्थापना की थी। सुंदरनगर का प्राचीन नाम सुकेत था।

1805 ई.पू.

अमर सिंह थापा ने कांगड़ा के किले पर आक्रमण किया था।

1809 ई.पू.

राजा संसार चंद-II व महाराजा रणजीत सिंह के बीच ज्वालामुखी की संधि हुई थी।

1814-15 ई.पू.

अंग्रेज गोरखा युद्ध (मेजर जनरल डेविड ऑक्टरलोनी) के नेतृत्व में अंग्रेजी सेना ने गोरखा कमांडर अमर सिंह थापा को हराया था।

1815 ई.पू.

अंग्रेजों तथा अमर सिंह थापा के बीच संगौली की संधि 17 दिसंबर 1815 में हुई तथा 4 मार्च 1816 में लागू हुई।

1822 ई.पू.

मेजर कैनेडी ने शिमला शहर की स्थापना की थी।  

1827 ई.पू.

लॉर्ड एम्हर्स्ट शिमला में आने वाले प्रथम गवर्नर जनरल थे।

1832 ई.पू.

शिमला में बार्नस कोर्ट भवन का निर्माण 1832 मे किया। बार्नस कोर्ट हि.प्र. राज्यपाल का निवास स्थान हैI

1846 ई.पू.

लाहौर संधि के अंतर्गत प्रथम सिख अंग्रेज युद्ध का अंत हुआ।

1846 ई.पू.

कांगड़ा, नूरपुर, गुलेर, जसवां, द्तारपुर, सुकेत मंडी, कुल्लू और लाहौल-स्पीति इत्यादि रियासतें अंग्रेजों के अधीन आई।

1851 ई.पू.

हिंदुस्तान तिब्बत सड़क का निर्माण कार्य शुरू किया गया। यह सड़क सामरिक दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है।

1852 ई.पू.

वर्ष 1852 में अंग्रेजों द्वारा शिमला नगरपालिका की स्थापना की थी। शिमला अंग्रेजों की ग्रीष्मकालीन राजधानी भी रहा।

1857 ई.पू.

भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम (1857) की चिंगारी शिमला के जतोग में स्थित नसीरी बटालियन में सूबेदार भीम सिंह के नेतृत्व में सैनिक विद्रोह के रूप में सामने आई थी।

1859 ई.पू.

बिशप कॉटन स्कूल की स्थापना 28 जुलाई 1859 को शिमला में हुई थी। बिशप जॉर्ज एडवर्ड लिंच कॉटन इसके संस्थापक थे।

1864 ई.पू.

भारत के वायसराय जॉन लारेंस के प्रयासों से शिमला को अंग्रेजी शासन की ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाया गया। लॉर्ड एलगिन प्रथम की मृत्यु के बाद सर जॉन लारेन्स भारत का वायसराय बना था।  

1870 ई.पू.

हिमाचल में सेब की खेती का सूत्रपात कुल्लू के बंदरोल में हुआ था। यहां वर्ष 1870 में सेब का पहला बगीचा  लगाया गया। इसे लगाने वाले एक अंग्रेज कैप्टन  आर. सी. ली. थे। इस बगीचे का नाम बंदरोल ऑर्चर्ड रखा।

1871 ई.पू.

वर्ष 1871 में लॉर्ड मायो शिमला आए थे। मेयो के समय में ही सर्वप्रथम 1871 में भारत में जनगणना की शुरुआत हुई।  लार्ड मेयो के कार्यकाल में भारतीय सांख्यिकीय बोर्ड का गठन किया गया था।

1883 ई.पू.

अमरचंद के शासनकाल में बिलासपुर के गेहड़वीं में झुग्गा आंदोलन हुआ। अमरचंद ने 1885 ई० में रियासत के अभिलेख देवनागरी लिपि में रखने व कामकाज करने के आदेश पारित किये थे।

1887 ई.पू.

सन् 1887 में ब्रिटिश आर्किटैक्ट हैनरी इरविन ने गेयटी को विक्टोरियन गोथिक शैली में बनाया था

1905 ई.पू.

4 अप्रैल 1950 को कांगड़ा में भयंकर भूकंप आया। भूकंप में 20,000 लोगों की मौत हुई थी।

1908 ई.पू.

भूरी सिंह संग्रहालय की स्थापना 14 सितंबर 1908 को राजा भूरी सिंह ने करवाई थी। भूरी सिंह ने 1904 से 1919 तक चंबा पर शासन किया। 

1914-15 ई.पू.

मंडी में भाई हिरदा राम ने गदर पार्टी की शाखा का गठन किया था। 28 नवंबर 1885 को भाई हिरदा राम का जन्म मंडी जिले मे हुआ था।

1921 ई.पू.

महात्मा गांधी पहली बार शिमला मदन मोहन मालवीय और लाला लाजपत राय के साथ 12 मई 1921 को तत्कालीन वायसराय लॉर्ड रीडिंग से मिलने आए थे।

1930 ई.पू.

बिलासपुर रियासत के अंतिम शासक आनंद चंद के विरुद्ध डांड़रा आंदोलन हुआ था। आनंदचंद बिलासपुर रियासत के अंतिम शासक थे। बिलासपुर का भारत में विलय का विरोध करते थे और स्वतंत्र अस्तित्व के पक्षधर थे। बिलासपुर वर्ष 1948 को '' श्रेणी का राज्य बना और 12 अक्टूबर 1948 को आनंदचंद को बिलासपुर का पहला मुख्य आयुक्त बनाया गया |

1932 ई.पू.

लाहौर में चंबा People's Defence League की स्थापना हुई थी। इसका मुख्यालय लाहौर में बनाया गया था।

1936 ई.पू.

मार्च 1936 में चंबा रिसासत में चंबा सेवक संघ नाम से एक संस्था का गठन किया। बाद में संस्था राजनीतिक संगठन में बदल गई।

1937 ई.पू.

वर्ष 1937 में धामी में “प्रेम प्रचारिणी सभा” का गठन किया गया।

1939 ई.पू.

16 जुलाई 1939 को धामी में प्रजामंडल के कार्यकर्ताओं ने तत्कालीन रियासत के राजा की जनता विरोधी नीतियों के कारण शिमला से भागमल सोहटा और पंडित सीताराम शर्मा के नेतृत्व में हजारों लोगों की उपस्थिति में राजमहल के बाहर धरना-प्रदर्शन व नारेबाजी की थी ।

1942 ई.पू.

भारत छोड़ो आंदोलन के समय हिमाचल के सिरमौर मे वैद्य सूरत सिंह के नेतृत्व में पझौता आंदोलन हुआ था।

1945 ई.पू 

अंग्रेजों ने द्वितीय विश्व युद्ध में विजय की याद में शिमला में विक्ट्री टनल का निर्माण करवाया था।

1946 ई.पू

Himalyan Hill Status Regional Council की स्थापना हुई। इसके प्रधान स्वामी पूर्णानंद और सचिव पंडित पद्मदेव को बनाया गया। 

1948 ई.पू.

22 जनवरी को शिवानंद रमौल की अध्यक्षता में हिमाचल प्रदेश में स्थायी सरकार का गठन।

26-28 जनवरी को बघाट के अंतिम राजा दुर्गा चंद की अध्यक्षता में सोलन सम्मेलन आयोजित हुआ। इस सम्मेलन में हिमाचल प्रदेश का नामकरण हुआ।

1948 ई.पू.

18 फरवरी 1948 को पंडित पदम देव के नेतृत्व में सुकेत सत्याग्रह हुआ।

15 अप्रैल 1948 को हिमाचल प्रदेश का गठन (4 जिले- चंबा, महासू, मंडी और सिरमौर)।

1951 ई.पू.

हि.प्र. '' का राज्य बना।

1952 ई.पू.

वर्ष 1952 हि.प्र. मुख्य आयुक्त के स्थान पर उपराज्यपाल की नियुक्ति की गई मेजर जनरल हिम्मत सिंह प्रथम उप-राज्यपाल बने।

1953 ई.पू.

THE HIMACHAL COMPULSORY PRIMARY EDUCATIQN ACT, 1953 पारित हुआ।

1954 ई.पू.

1 जुलाई 1954 बिलासपुर रियासत का हि.प्र. में पांचवें राज्य के रूप विलय हुआ। बिलासपुर जिला हिमाचल प्रदेश के दक्षिण पश्चिम में स्थित है।

1956 ई.पू.

1 नवंबर 1956 हि.प्र. केंद्रशासित प्रदेश बना।

1957 ई.पू.

मंडी के कर्म सिंह ठाकुर को 41 सदस्यीय क्षेत्रीय परिषद का अध्यक्ष चुना गया।

1960 ई.पू.

महासू जिले की "चीनी" तहसील को किन्नौर नाम से हि.प्र. का छठा जिला बनाया गया।

1963 ई.पू.

1 जुलाई 1963 को 41 सदस्यीय क्षेत्रीय परिषद को हि.प्र. विधानसभा में परिवर्तित किया गया।

1966 ई.पू.

1 नवंबर 1966 पंजाब पुनर्गठन के बाद विशाल हिमाचल का निर्माण हुआ।

1970 ई.पू.

22 जुलाई 1970 हि.प्र. विश्वविद्यालय समरहिल शिमला में स्थापना की गई।

1971 ई.पू.

25 जनवरी 1971 को बर्फ के फाहों के बीच देश की तत्कालीन प्रधानमंत्री श्रीमती इंदिरा गांधी द्वारा ऐतिहासिक रिज मैदान शिमला से हि.प्र. को देश का 18वां पूर्ण राज्य राज्य बनाने की घोषणा की थी।

1972 ई.पू.

वर्ष 1972 में कांगड़ा ऊना, हमीरपुर, जिले अस्तित्व में आए थे।

1973 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश में भूमि जोत सीमा अधिनियम पारित हुआ था।

1974 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश में Village Common Land wasting Utilization Act  लाया गया, जिसके तहत श्यामलात जमीने किसानों से वापस ले ली गई।

1975 ई.पू.

 

19 जनवरी 1975 को किन्नौर में भूकंप आया था। जिससे करीब 47 लोगों की मृत्यु हो गई थी तथा लाहौल-स्पीति में तावो मॉनेस्ट्री को भी नुकसान पहुंचा था।

1976 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश न्यायालय अधिनियम, 1976

1977 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश टाउन एंड कंट्री प्लानिंग एक्ट, 1977

वर्ष 1977 के हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनावों में जनता पार्टी को 53 सीटें, कांग्रेस पार्टी को 09 सीटें,  तथा अन्य को 06 सीटें प्राप्त हुईI

1978 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा Land Preserve Act, 1978 लागू किया था।

1979 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश में मत्स्य अधिनियम, 1979 में लागू हुआ था।

1979 में किन्नौर, लाहौल-स्पीति, चंबा में हिमखंडों से 237 लोगों की जान गई थी। HP Ex-Services Corporation Act, 1979 लागू किया गया।

1980 ई.पू.

श्री रामलाल दूसरी बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बनेI

1981 ई.पू.

2 मई 1981 को हिमाचल प्रदेश के निर्माता डॉ.यशवंत सिंह परमार का निधन हुआ।

1982 ई.पू.

वर्ष 1982 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने 31 सीटें जीतकर सरकार का गठन किया। वहीं भाजपा को 29 और अन्य को 8 सीटें प्राप्त हुई।

1983 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश भूमि संरक्षण नियम, 1983, हिमाचल प्रदेश लोकायुक्त अधिनियम, 1983

1984  ई.पू.

हिमाचल प्रदेश के शिमला जिला से संबंध रखने वाले श्री आनंद शर्मा का राज्यसभा के लिए चयन हुआ।

1985 ई.पू.

विधानसभा चुनावों में कांग्रेस द्वारा 52 सीटें जीतकर सरकार का गठन किया। भाजपा को 7 सीटें तथा अन्य को 9 सीटें प्राप्त हुईl श्री वीरभद्र सिंह मुख्यमंत्री बनेl

1986 ई.पू.

वर्ष 1986 में हिमाचल प्रदेश तकनीकी बोर्ड की स्थापना की गई।

1987 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश अचल संपत्ति अधिनियम, 1987, हिमाचल प्रदेश शहरी किराया नियंत्रण अधिनियम, 1987

1988

हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा संपूर्ण विद्युतीकरण का लक्ष्य प्राप्त किया।

1989 ई.पू.

वर्ष 1989 में पालमपुर के रोटरी क्लब में भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं की बैठक में राम मंदिर प्रस्ताव पहली बार पारित किया गयाl इस बैठक का नेतृत्व श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा किया गया थाl

1990 ई.पू.

15 अगस्त 1990 को हिमाचल प्रदेश में अंत्योदय योजना का शुभारंभ किया गया।

1991 ई.पू.

5 अगस्त 1991 को लीला सेठ हि. प्र. उच्च न्यायालय की प्रथम महिला मुख्य न्यायाधीश नियुक्त हुई थीl

1992 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश में बीजेपी की सरकार को भंग करके अनुच्छेद-356 के तहत राष्ट्रपति शासन लागू किया गया।

1993 ई.पू.

कुल्लू जिले की डिक्की डोलमा माउंट एवरेस्ट पर चढ़ने वाली संसार की सबसे कम उम्र की महिला बनी।

1994 ई.पू.

वर्ष 1994 में हिमाचल प्रदेश में पंचायती राज अधिनियम लागू हुआ

1995 ई.पू.

हि. प्र. के मनाली में बादल फटने से भारी तबाही, पंडोह डैम में अत्यधिक जल के कारण पानी बाजारों में घुसा। 

1996 ई.पू.

वर्ष 1996 में  हिमाचल प्रदेश में Maintance of Parents and Dependents Bill पारित हुआ।

1997 ई.पू.

हि. प्र. की राज्य सरकार ने दिसंबर 1997 में परागपुर को देश का पहला हेरिटेज विलेज घोषित किया।

1998 ई.पू.

वर्ष 1998  में  हिमाचल प्रदेश अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड हमीरपुर में स्थापित किया गया। 

1999 ई.पू.

वर्ष 1999 में  हिमाचल प्रदेश के क्रिकेटर राजीव नायर ने (1017 मिनट)  सबसे लंबे समय तक क्रीज पर रुकने का विश्व रिकॉर्ड बनाया।

2000 ई.पू.

वर्ष 2000 में विधायक क्षेत्र विकास योजना का प्रारंभ किया गया। 

2001 ई.पू.

वर्ष 2001 में स्वयं सिद्धा योजना का आरंभ किया गया। 

2002 ई.पू.

वर्ष 2002 में अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा रोहतांग टनल का शिलान्यास किया।

2003 ई.पू.

वर्ष 2003 में कर्मचारियों की पेंशन बंद, विधानसभा चुनावों में कांग्रेस द्वारा 43 सीटें जीतकर सत्ता वापसी की तथा भारतीय जनता पार्टी को 16 सीटें तथा अन्य को 9 सीटें प्राप्त हुई।

2004 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश सड़क अवसंरचना संरक्षण नियम-2004 को राजपत्र हिमाचल प्रदेश में 30 अक्टूबर 2004 को प्रकाशित किया गया था। हिमाचल प्रदेश न्यायिक सेवा नियम, 2004 में अस्तित्व में आया।

2005 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश मध्य हिमालय आगमन विकास योजना शुरू की गई।

2006 ई.पू.

स्वां नदी एकीकृत योजना को आरंभ किया गया।

2007 ई.पू.

शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान से 2 अक्टूबर 2007 को तत्कालीन वित्त मंत्री पी. चिदंबरम द्वारा आम आदमी बीमा योजना का शुभारंभ किया।

2008 ई.पू.

हिमाचल प्रदेश सरकार ने 5 फरवरी 2008 को  E-Goverance की शुरुआत की।

UNESCO ने शिमला-कालका रेलवे को विश्व धरोहर का दर्जा दिया।

2009 ई.पू.

वर्ष 2009 में हिमाचल प्रदेश में 4 लोकसभा की सीटों के लिए चुनाव हुए। भारतीय जनता पार्टी ने 3 सीटें जीतीं। जबकि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस ने 1 सीट जीती।

2010 ई.पू.

वर्ष  2010 में ऊना के अम्ब में राज्य के पहले टैक्सटाइल पार्क का कार्य आरंभ किया गया।

2011 ई.पू.

वर्ष 2011 में  हिमाचल प्रदेश लोक सेवा गारंटी योजना 2011 को मंजूरी प्रदान की गई। 

2012 ई.पू.

वर्ष 2012 में  हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर जिला के सूबेदार विजय कुमार ने लंदन ओलंपिक 2012 में रजत पदक जीता। वर्ष 2012 में 12वीं विधानसभा के चुनाव हुए। जिसमें कांग्रेस द्वारा 36 सीटें जीतकर सत्ता वापसी कीl भाजपा को 26 सीटें तथा अन्य को 6 सीटें प्राप्त हुईl

2013 ई.पू.

वर्ष 2013 में वर्ल्ड बैंक द्वारा हि. प्र. में समग्र हरित विकास के लिए 550 करोड का ऋण प्रदान किया गया। 

2014 ई.पू.

वर्ष 2014 में  द ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क कुल्लू को UNESCO  द्वारा विश्व धरोहर का दर्जा दिया गया। 

2015 ई.पू.

वर्ष 2015 में  हि. प्र. में प्रधानमत्री जीवन ज्योति योजना तथा सुकन्या समृद्धि योजना का आरंभ किया गया।

2016 ई.पू.

वर्ष 2016 में  हिमाचल प्रदेश के मंडी जिला को स्वच्छता पुरस्कार प्राप्त हुआ।

2017 ई.पू.

वर्ष 2017 में हिमाचल प्रदेश में तेरहवीं विधानसभा के लिए चुनाव हुए।

जिसमें भाजपा को 44 सीटें, कांग्रेस पार्टी को 21 सीटें, CPI(M) को 1 सीट तथा निर्दलीयों को 2 सीटें प्राप्त हुई।

2018 , 2019 & 2020 की घटनाओं का विश्लेषण अध्याय - 14 “समसामयिक घटनाओं में दर्शाया गया है।


Comments